BSF(Border Security Force) के अधिकार क्षेत्र में हुआ बदलाव | कुछ राज्य इसका विरोध क्यों कर रहे है ?

BSF (Border Security Force) यानि सीमा सुरक्षा बल के अधिकारों में केंद्र के द्वारा कुछ परिवर्तन किया गया है और इस परिवर्तन का कुछ राज्य जैसे पंजाब , पश्चिम बंगाल में इसका विरोध हो रहा है |

आज हम यहाँ इसी विषय पर डिटेल में चर्चा करेंगे तो इसके लिए पहले जानते है BSF(Border Security Force) क्या होता है और इसके इतिहास के बारे में |

BSF(Border Security Force) का इतिहास

सन 1965 तक भारत की सीमाओं की सुरक्षा राज्य के पुलिस बटालियन के द्वारा की जाती थी | जब पाकिस्तान ने कच्छ में 9 अप्रैल 1965 को सरदार पोस्ट ,चार बेट और बरिया बेट पर हमला किया | इस हमले के बाद यह पाया गया की राज्य की पुलिस बटालियन सीमाओं के आक्रमण का सामना करने के लिए पर्याप्त नहीं है |

इसी के कारण वश भारत की सरकार को एक ऐसी सुरक्षा बल की जरुरत महसूस हुई जो ऐसे ही आक्रमण से निपटने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्छित हो और यह केंद्र के अधीन काम करे |

BSF(Border Security Force) की स्थापना 1 दिसंबर 1965 में की गयी और इसके प्रमुख और संस्थापक के एफ रुस्तमजी (K F Rustam ji) थे | 1965 में कुल 25 बटालियन के साथ इसका गठन किया गया था | समय के साथ -साथ जम्मू कश्मीर ,पंजाब और नार्थ ईस्ट में सीमा सुरक्षा बल (BSF) का विस्तार होता रहा | ताकि सीमा पर हो रहे आंतकवादी गतिविधियों पर रोक लगाई जा सके |

वर्तमान में 192 बटालियन (३ NDRF बटालियन के साथ) और 7 आर्टी रेजिमेंट [भारत -पाकिस्तान /भारत -बांग्लादेश ] की सीमा सुरक्षा में तैनात है |

BSF(Border Security Force) के अधिकार क्षेत्र में क्या हुआ है बदलाव ?

BSF(Border Security Force) का जो अधिकार क्षेत्र होता है वह अलग -अलग सीमावर्ती राज्यों में अलग -अलग है | BSF(Border Security Force) का अधिकार क्षेत्र सीमा से कुछ किलोमीटर अंदर तक होता है | इसी क्षेत्र को कई राज्यों में बढ़ाया गया है और कही पर इसे काम किया गया है |

पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में BSF(Border Security Force) की सीमा से अधिकार क्षेत्र 15 KM तक का था जिसे बढाकर 50 KM तक कर दिया गया है | अब यहाँ BSF(Border Security Force) बॉर्डर से 50 KM अंदर तक अपना काम कर सकती है और इसका सारा नियंतरण गृह मंत्रालय के द्वारा किया जाएगा |

वैसे ही गुजरात और राजस्थान में BSF(Border Security Force) के अधिकार क्षेत्र को 80 KM से घटाकर 50 KM कर दिया गया है | मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय में BSF अधिकार क्षेत्र को 80 KM से घटाकर 60 KM कर दिया गया है |

राज्य पहले अब
पंजाब , पश्चिम बंगाल , असम 15 किलोमीटर 50 किलोमीटर
राजस्थान , गुजरात 80 किलोमीटर 50 किलोमीटर
मणिपुर , मिजोरम , त्रिपुरा ,नागालैंड ,मेघालय 80 किलोमीटर 60 किलोमीटर
BSF(Border Security Force)

BSF(Border Security Force) के अधिकार क्षेत्र में क्यों करना पड़ा बदलाव ?

पिछले कुछ समय से पंजाब में पाकिस्तान से ड्रोन के माध्यम से ड्रग्स की सप्लाई की जा रही है और ऐसे केस हाल के समय में काफी ज्यादा देखने को मिले है जिससे पंजाब के युवा पीढ़ी काफी प्रभावित हो रही है | इसके अलावा पाकिस्तान से कोई भी आतकवादी भारतीय सीमा में प्रवेश करता है तो ज्यादा चांस है की वह जल्दी से जल्दी आबादी वाले क्षेत्र में पहुंच जाता है |

ऐसा इसलिए सफल हो पा रहा है क्युकि पंजाब में BSF(Border Security Force) का अधिकार क्षेत्र मात्र 15 KM का था जिससे वह आसानी से पार कर लेता था | लेकिन अब अधिकार क्षेत्र बढ़ जाने की वजह से अब ऐसा कर पाना मुश्किल होगा | किसी भी संदिग्ध को 50 KM के क्षेत्र तक अपने तरीके से इन्वेस्टीगेट कर सकती है |

यही कारण रहा है जिस वजह से BSF(Border Security Force) के अधिकार क्षेत्र में बदलाव किये गए है |

किन -किन राज्यों में हो रहा है विरोध

पंजाब और पश्चिम बंगाल में इसका काफी ज्यादा विरोध किया जा रहा है | इन राज्यों का कहना है कि केंद्र सरकार राज्य की सीमा में भी अपना वर्चस्व बढ़ाना चाहती है |

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने ट्वीट करके कहा है कि

” हमें अपने सुरक्षा बलों पर गर्व है जो हमारी सीमाओं को सुरक्षित रखने और विदेशी हमलावरों से भारत की रक्षा करने के लिए हैं। विफलताओं को छिपाने के लिए और नेताओं और सरकारों द्वारा बनाई गई गंदगी को साफ करने के लिए उनका उपयोग करना बहुत खतरनाक है। यह न केवल हमारे बहादुर बलों को बदनाम करता है बल्कि उनके मनोबल, अनुशासन और तैयारियों पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है। राजनीतिक हथियार के रूप में हमारी ताकतों के इस प्रयोग से बचना चाहिए ”

सुनील जाखड़

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष

चरणजीत सिंह चन्नी का जीवन परिचय | Charanjit Singh Channi biography in Hindi

Spread the love
Shubhashish dey

Hello Friends , My Name Is Shubhashish Dey और मैं technewsfactory.com का founder और author हू साथ में एक Blogger और Digital marketer हू |

Leave a Comment