अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड, गौतम अडानी के पोर्ट-टू-रिन्यूएबल साम्राज्य की सात सूचीबद्ध इकाइयों में से एक

ने अपने ऋण-से-इक्विटी अनुपात के गुब्बारे को एशिया में दूसरे सबसे ऊंचे स्थान पर देखा है

जो इस बात को लेकर अलार्म बजा रहा है कि क्या अरबपति की आक्रामक विस्तार

क्या अरबपति की आक्रामक विस्तार योजनाओं ने अपने व्यवसायों का अत्यधिक लाभ उठाया।

ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, गुजरात स्थित कंपनी का 2,021% का ऋण-से-इक्विटी अनुपात 

केवल चीन की दातांग हुआयिन इलेक्ट्रिक पावर कंपनी से पीछे है, जिसका एशिया में 892 सूचीबद्ध कंपनियों में

2,452% का अनुपात है। अडानी ग्रीन एनर्जी इस मीट्रिक द्वारा टाइकून के साम्राज्य

में कंपनियों का सबसे अधिक लाभ उठाने वाली है क्योंकि यह अक्षय ऊर्जा की ओर समूह के $ 70 बिलियन धुरी को ि

क्योंकि यह अक्षय ऊर्जा की ओर समूह के $ 70 बिलियन धुरी को निधि देने के लिए कर्ज लेती है।

इस तरह की  तमाम खबरों के लिए हमारे वेबसाइट bvstartup.org पर जरूर विजिट करे